News Port 24×7

कुंवर प्रणव चैम्पियन ने किया आर्चरी एकेडमी का शुभारंभ

 Breaking News

कुंवर प्रणव चैम्पियन ने किया आर्चरी एकेडमी का शुभारंभ

कुंवर प्रणव चैम्पियन ने किया आर्चरी एकेडमी का शुभारंभ
August 12
15:26 2017

वासुदेव राजपूत। हरिद्वार

हरिद्वार स्थित शिवडेल स्कूल के प्रांगण मंे आर्चरी एकेडमी का शुभारंभ खानपुर विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन ने किया। इस अवसर पर खानपुर विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन ने छात्र-छात्राओं को शुभकामनायें देेते हुए कहा कि उत्तराखण्ड के प्रतिभागियों को अब आर्चरी खेल में अपनी प्रतिभा को दिखाने का मौका मिल सकेगा। पहली बार आर्चरी एकेडमी का गठन किया गया है जो कि सराहनीय प्रयास है। उन्होंने कहा कि तीरन्दाजी खेल को बढ़ावा देने के लिए पूरे उत्तराखण्ड आर्चरी एकेडमी के गठन वृहद स्तर पर किये जाने चाहिये उन्होंने आर्चरी ऐसोसिएशन और शिवडेल स्कूल के संचालक स्वामी शरदपुरी महाराज का आर्चरी गठन किये जाने पर शुभकामनायें दी। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में प्रतिभावान खिलाड़ियों को अब इस खेल में प्रशिक्षित होने का मौका मिल सकेगा। उत्तराखण्ड भी आर्चरी खेल में देश विदेश में अपना नाम रोशन कर सकेगा। शिवडेल स्कूल के संचालक स्वामी शरद पुरी महाराज ने कहा कि आर्चरी खेल को बढ़ावा देने के प्रयासों में यह पहली पहल की गई है स्कूल के छात्र छात्राओं को अपनी प्रतिभा को दिखाने का मौका मिल सकेगा। उन्होंने कहा कि तीरदांजी खेल भारतीय सभ्यता में पूर्व से चला आ रहा है। लेकिन इस खेल को बढ़ावा नहीं दिया जा रहा है। जिन कारणों से अन्य विदेशी खेल खिलाड़ियों की पसंद बनते जा रहे हैं ऐसे में हमें आर्चरी खेल को बढ़ावा देने के लिए बढ़ चढ़कर आर्चरी प्रतियोगितायें करानी होगी अधिक से अधिक प्रचार प्रसार करना होगा। अन्य खेलों की अपेक्षा इस खेल में भी प्रतिभायें अपना नाम चमका सकती है लेकिन एकाग्रता कठिन मेहनत से ही मुकाम पाये जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि आर्चरी एकेडमी का गठन कर लिया गया है। आर्चरी एकेडमी के कोच पवन कुमार सैनी छात्र छात्राओं को इस खेल में प्रशिक्षित कर रहे हैं। इस अवसर पर डीएवी स्कूल के उप प्रधानाचार्य मनोज कपिल, प्रेमराज चैहान, बलराज गहलियान, पुनीत श्रीवास्तव, हिमांशु शर्मा, सुमित शर्मा, नीतू राठौर, मोहित, सचिन कुमार एवं बच्चों के अभिभावक भी मौजूद रहे।

About Author

admin

admin

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Write a Comment